भगवान श्रीकृष्ण का विराटरूप वर्णन | विश्वरूप दर्शन, श्रीमद्भागवतगीता|

bhagwan shri krishna ka virat roop

भगवान श्रीकृष्ण के विराट रूप को विश्वरूप भी कहां जाता हैं, सम्पूर्ण जगत, अनंत ब्रम्हांड, तीनों लोक भगवान के इस अनंत व्याप्त रूप में समाया हुआ हैं। भगवान के इस रूप को परम रहस्य हैं अर्जुन के अलावा कोई इस विराट रूप के दर्शन नहीं कर सका हैं। कुरुक्षेत्र की युद्धभूमि में भगवान श्रीकृष्ण ने … Read more

गरूड़ का अहंकार, भगवान विष्णु की कथा

गरूड़ का अहंकार, भगवान विष्णु की कथा

अहंकार करना उचित नहीं होता अहंकार को एक शत्रु भी कह सकते हैं, यह शत्रु मन बुद्धि पर अधिकार कर लेता हैं, व्यक्ति को पता भी नहीं चलता की अहंकार उसे अज्ञानता घोर अंधकार में ले जा रहा। जिसमे उसकी हानि होना निश्चित हैं। अहंकार में चूर हुआ अहंकार को नहीं जान और हरा पाता … Read more

भगवान श्री कृष्ण ने बाल्यावस्था में किन राक्षसों को मारा था? यहां जानें।

bhagwan-krishna-ne-kin-rakshason-ko-mara-tha

भगवान श्रीकृष्ण युगों–युगों से अपने भक्तों का उद्धार करते आए हैं। जब द्वापर युग में भगवान ने अवतार लिया , तब उनके मामा कंस के कारण शिशु अवस्था में ही संकट के काले बादल उनके और ब्रज वासियों पर मंडरा रहे थे । कंस एक से बढ़कर एक मायावी राक्षसों को भगवान का वध करने … Read more

भगवान जगन्नाथ की कथा | Rath Yatra | kahani | Rahasya

ओड़िशा राज्य के पूरी शहर में भगवान जगन्नाथ का भव्य मंदिर हैं। भगवान जगन्नाथ जी के कारण पूरी को भारत भर में जगन्नाथ पुरी भी कहते हैं। भगवान जगन्नाथ की पूरी सनातन के चार धामों में से एक हैं। हर साल सम्पूर्ण जगत से श्रद्धालु जगन्नाथ पूरी के भव्य रथयात्रा उत्सव में शामिल होते है। … Read more

देवाधिदेव भगवान शिव ने कौन-कौनसे अवतार लिए है. जानिए | 11 रूद्र अवतार | 19 अंशअवतार|

bhagwan shiv ke kitne avatar hai

भगवान शिव जिनका न आदि है न अंत। उन्हें स्वयंभू भी कहां जाता हैं । शिव महापुराण और अन्य पुराणों के अनुसार भगवान शिव ने अधर्म का सर्वनाश करने के लिए रूद्र अवतार और अंशअवतार लिए  है। “रूद्र” शब्द का अर्थ होता है अति भयानक या एक आंधी। दुःख का और आपत्ति का संहार और … Read more

भगवान श्री विष्णु के 24 अवतार कौन-कौनसे हैं? जानिए

श्रीमदभगवद्गीता में भगवानश्रीकृष्ण और अर्जुन के बीच में संवाद है जहां भगवान अर्जुन से कहते है जब जब धर्म की हानि होती है और अधर्म का वर्चस्व बढ़ने लगता हैं तब वे अवतार लेते हैं। भगवान श्रीकृष्ण के अवतार के मुख्य तीन कारण होते है साधुपुरषों का उद्धार करना, दृष्टो का विनाश करना और धर्म … Read more

× How Can I Help You?